BSc क्या है? BSc के बाद क्या करे?

BSc Ke Baad Kya Kare? शिक्षा स्वम को बेहतर बनाने व भविष्य को सवारने के लिए सबसे उत्तम तरीका है।  एक समय था, जब लोगों के पास शिक्षा के अनेक विकल्प नहीं थे। लेकिन जैसे जैसे समय आगे बढ़ता गया व शिक्षा को लेकर जागरूकता सामने आई। उसे देखते हुए आज शिक्षा के लिए विशेष पाठ्यक्रम उपलब्ध है। परंतु कुछ सवाल अभी ऐसे शेष है, जिनको लेकर विद्यार्थी के सामने संशय बना हुआ है।

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हम एक ऐसे ही विषय पर चर्चा करेंगे, जिसको लेकर काफी स्टूडेंट सोचते रहते है। जी हाँ, आज की इस जानकारी के माध्यम से हम आपको बताएंगे की BSc के बाद क्या करे। तो बिना देरी किए शुरू करते है, आज की इस पोस्ट को।

BSc क्या है?

BSc (Bachelor of Science) एक undergraduate डिग्री पाठ्यक्रम है,जिसे 12वी के बाद किया जाता है। अथवा इस पाठ्यक्रम के अंतर्गत विज्ञान के विषय मे विस्तार से जानकारी प्राप्त की जाती है। जो लोग विज्ञान के विषय मे महारत हासिल करना चाहते है, या रिसर्च मे रुचि रखते है। उनके लिए यह एक फाउंडेशनल कोर्स है। पोस्ट मे आगे बढ़ने से पहले हम आपको बताएंगे की BSc के बाद क्या क्या विकल्प है।

BSc के बाद क्या करे?

अगर आप BSc करने के बाद संशय मे है, वो सोच रहे है। कि हाइयर स्टडीस के लिए क्या ऑप्शन चुने तो उसके लिए नीचे कुछ प्रमुख ऑप्शन दिए गए है। जिनकी मदद से आप अपनी स्टडीस को आगे बढ़ा सकते है।

  • MSc
  • MCA
  • MBA
  • PGDM
  • UPSC
  • SSC-CGL
BSc के बाद क्या करे
BSc के बाद क्या करे

ये कुछ प्रमुख ऑप्शन है, जिनमे से किसी एक का भी चयन कर आगे की स्टडीस को कम्प्लीट किया जा सकता है। अभी भी ऐसे अनेकों स्टूडेंट्स है, जो केवल स्नातक पाठ्यक्रम तक अध्यन सीमित कर सरकारी परीक्षा की तयारी करते है। जी हाँ, इन्ही मे से ऊपर दो विकल्प दिए गए है। परंतु इससे पहले आपको बताएंगे की मास्टर्स के लिए क्या क्या विकल्प है।

MSc

Master of Science (MSc) जो की BSc के बाद मास्टर्स के लिए एक विशेष पाठ्यक्रम है। इसके लिए कोई भी स्टूडेंट एन्ट्रन्स इग्ज़ैम देकर या डायरेक्ट भी अड्मिशन प्राप्त कर सकता है। यह दो वर्षीय पाठ्यक्रम होता है।

MCA

Master of Computer Applications जिसे BSc के बाद भी किया जा सकता है। आज के समय मे जिस प्रकार से आईटी सेक्टर मे रोजगार की भरमार देखने को मिल रही है। उसे देखते हुए अनेकों छात्र इस पाठ्यक्रम की ओर रुख कर रहे है। अगर आपने विज्ञान विषय मे स्नातक की हुई है, तो आपके पास यह सबसे उत्तम मौका है, जिसके द्वारा आप अपना करिअर इस क्षेत्र मे बना सकते है। एमसीए पाठ्यक्रम की अवधि कुल तीन शैक्षणिक वर्ष है।

यह भारत में स्थित कई कॉलेजों / विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक पूर्णकालिक स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम है। इस पाठ्यक्रम को छह सेमेस्टर में विभाजित किया गया है, प्रत्येक छह महीने की अवधि के साथ। इस पाठ्यक्रम का पहला वर्ष कंप्यूटर में कौशल विकास पर केंद्रित है, दूसरे वर्ष का उद्देश्य एक वैचारिक ढांचा प्रदान करना है और तीसरा वर्ष विशेषज्ञता और परियोजना कार्य प्रदान करता है।

MBA

Master of Business Administration जिसे मैनिज्मन्ट के क्षेत्र मे सबसे बेहतर पाठ्यक्रम मे से एक माना जाता है। BSc के बाद सबसे बेहतर विकल्पों मे से एक है। जो विद्यार्थी अपनी ग्रैजवैशन के बाद CAT की परीक्षा मे रुचि रखते है। उनके लिए यह सबसे सरल ऑप्शन से मे एक है।

एक पूर्णकालिक एमबीए प्रोग्राम आम तौर पर दो साल तक चलता है, हालांकि कई त्वरित पूर्णकालिक एमबीए प्रोग्राम हैं जो एक वर्ष तक चलते हैं। एमबीए का यह तेज़-तर्रार प्रकार आम है, खासकर गैर-यू.एस. बिजनेस स्कूलों में।

अंशकालिक और कार्यकारी एमबीए प्रोग्राम लंबाई में भिन्न होते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि छात्र प्रत्येक शैक्षणिक सेमेस्टर या तिमाही में कितने क्रेडिट का नामांकन करता है। दोनों कार्यकारी और अंशकालिक एमबीए प्रोग्राम कामकाजी पेशेवरों के लिए डिज़ाइन किए गए हैं जो पूर्णकालिक नौकरी बनाए रखते हुए स्कूल में भाग ले रहे हैं।

PGDM

Post Graduate Diploma In Management दो वर्षीय पाठ्यक्रम हैं। जिसके तहत मैनिज्मन्ट के विषय मे विस्तार से अध्यन किया जाता हैं। वही दूसरी ओर काफी स्टूडेंट एमबीए न करके इसी कोर को चुनते हैं। आज के समय मे एक जहाँ क्वापरैट सेक्टर मे नौकरियों की भरमार हो रही हैं, उसे देखते हुए इस पाठ्यक्रम से अनेकों विकल्प सामने आते हैं।

UPSC ( Union Public Service Commission )

Union Public Service Commission जिसके अंतर्गत सभी बड़ी परीक्षा आयोजित की जाती हैं। Bsc करने के बाद अगर कोई विद्यार्थी एनडीए या आईएएस के लिए तयारी करना चाहते हैं। तो इसके तहत आसानी से कर सकते हैं। जैसा की हम सभी जानते हैं, कि BSc केवल स्नातक पाठ्यक्रम के बराबर हैं, इसके स्थान पर Ba भी किया जा सकता हैं। लेकिन इस स्ट्रीम मे जिस प्रकार से कुछ विशेष विषयों पर ध्यान दिया जाता हैं, उसके चलते यूपीएससी की परीक्षाओ मे काफी मदद मिलती हैं।

तो अगर आप BSc के बाद अपने करिअर को लेकर अधिक सोच विचार कर रहे हैं, तो उसके लिए आपके पास अनेकों विकल्प हैं। अगर रोजगार की बात की जाए तो इसके लिए आप टीचिंग प्लेटफॉर्म पर भी अप्लाइ कर सकते हैं। साथ ही इसी के चलते अन्य बड़े इग्ज़ैम की तयारी भी कर सकते हैं।

BSc विज्ञान कोर के सबसे महत्वपूर्ण पाठ्यक्रमों मे से एक माना जाता हैं, इसीलिए हर वर्ष अनेकों स्टूडेंट इसके लिए अप्लाइ कर सकते हैं। भारत मे BSc करने हेतु अनेकों शिक्षण संस्थान हैं, जो मेरिट के आधार पर पाठ्यक्रम की शरुआत करते हैं।

इसके अलावा अगर BSc के लिए योग्यता व फीस की बात की जाए तो उसके लिए कक्षा 12वी मे कम से कम 60% अंकों के साथ फिज़िक्स, केमिस्ट्री व मैथ्स मे पास होना अनिवार्य हैं। BSc के बाद MSc मे मास्टर्स की डिग्री प्राप्त कर हाइयर स्टडीस के लिए Ph.D करने का सबसे बेहतर तरीका हैं।

जो भी स्टूडेंट्स रिसर्च मे रुचि रखते हैं, उनके लिए इस पाथ को सुनिश्चित करने से करिअर की अनेकों राह प्रदर्शित होती हैं। तो आशा करते हैं, आज की इस पोस्ट के माध्यम से आपको BSc के बाद किस फील्ड मे करिअर बना सकते हैं, इसके विषय मे विस्तार से जानकारी मिली होगी।

2 thoughts on “BSc क्या है? BSc के बाद क्या करे?”

Leave a Comment