Doctor Kaise Bane? आवश्यक योग्यता, प्रवेश परीक्षाएं?

( Doctor Kaise Bane ) जिंदगी में हर किसी का अपना एक लक्ष्य होता है कोई व्यक्ति डॉक्टर बनना चाहता है तो कोई इंजीनियर बनना चाहता है लेकिन भारत में ज्यादातर देखा गया है कि पेरेंट्स भी बच्चों को डॉक्टर या इंजीनियर की बनता देखना चाहते हैं। यदि आपने भी अपने भविष्य के लिए लक्ष्यों का निर्माण कर रखा है और आप डॉक्टर बनने की सोच रहे हैं तो आज कि यह पोस्ट आपके लिए ही रहने वाली है इसमें हम आपको doctor kaise bane in hindi के बारे में बताने वाले है। 

 कुछ लोगों का सपना होता है कि वह डॉक्टर बने लेकिन उन्हें सही मार्गदर्शन नहीं मिलने के चलते वह अपने उद्देश्य से भटक जाते हैं लेकिन इस पोस्ट के माध्यम से डॉक्टर बनने तक के पूरे प्रोसेस के बारे में बताया गया है।   साथ ही यह भी बताए गए हैं कि कौन-कौन से कोर्स डॉक्टर बनने के लिए किए जाते हैं। 

डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक योग्यता – (Qualification required to become a doctor)

(1) डॉक्टर बनने की शुरुआत आपको 10th के बाद करनी होगी आपको 11th क्लास में PCB(physics, chemistry, biology) सब्जेक्ट चुनना होगा और 12वीं क्लास में अच्छे नंबरों के साथ पास होना होगा। 

(2) डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक है कि आप इंग्लिश बैकग्राउंड से हो और आप की इंग्लिश में पकड़ मजबूत हो क्योंकि आगे जितने भी कोर्स आते हैं सभी इंग्लिश में रहते हैं। 

(3) 12वीं कक्षा में प्रत्येक विषय में 50% से अधिक मार्क्स होने चाहिए। 

डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक प्रवेश परीक्षाएं – (Required entrance exams to become a doctor)

 यदि आप डॉक्टर बनना चाहते हैं तो भारत में इसके लिए एक एंट्रेंस एग्जाम निर्धारित किया गया है जिसको पास करने के बाद आप डॉक्टर बनने के सपने को पूरा कर सकते हैं। 

नीट एग्जाम :

जो लोग महंगी महंगी कॉलेज में फीस देकर एमबीबीएस की पढ़ाई नहीं कर सकते हैं उनके लिए नीट का एग्जाम सबसे अच्छा विकल्प होता है। यह कोर्स बायोलॉजी के स्टूडेंट के लिए होता है जो प्रत्येक वर्ष एनटीए द्वारा आयोजित की जाती है। 

नीट का एग्जाम स्टूडेंट दे सकते हैं जो 12वीं कक्षा में पढ़ रहे हैं या फिर जिन्होंने 12वीं कक्षा पास कर ली है वह ये एंट्रेंस एग्जाम दे सकते हैं लेकिन यदि आप का चयन नीट की परीक्षा में हो जाता है लेकिन अब 12वीं में फेल हो जाते हैं तो आप उसके लिए योग्य नहीं रहते। 

दूसरी ओर दिव्यांग स्टूडेंट के लिए भी इसमें छूट दी जाती है उन्हें 12वीं कक्षा में मिनिमम 40 परसेंट के साथ पास होना अनिवार्य होता है। इस एग्जाम में नीची जाति के लोगों को आरक्षण की सुविधा मिलती है उन्हें आयु सीमा में भी 5 साल तक की छूट दी जाती है। 

नीट के एग्जाम में दो एग्जाम लिए जाते है पहला pre exam होता है और दूसरा mains जो स्टूडेंट प्री एग्जाम को पास करते हैं वही स्टूडेंट mains के  एग्जाम के लिए योग्य रहते है। जो स्टूडेंट इन दोनों एग्जाम को पास कर लेते हैं उसके बाद उनकी मेरिट डिसाइड होती है और काउंसिलिंग करके उनके नंबर के आधार पर कॉलेज निर्धारित की जाती है। 

डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक कोर्स – (Required courses to become a doctor)

नीट के एग्जाम में प्रत्येक वर्ष लाखों की संख्या में स्टूडेंट भाग लेते हैं लेकिन सभी स्टूडेंट उस परीक्षा को पास नहीं कर पाते हैं।हालांकि जो स्टूडेंट नीट के एग्जाम में सफल हो जाते हैं वह कम पैसों में डॉक्टर की डिग्री हासिल कर लेते हैं। इसमें हमारी सलाह यह है कि आप जितना हो सके नीट के एग्जाम की तैयारी पूरी  शिद्दत से करें। 

अब उन स्टूडेंट्स के सामने एक चुनौती रहती है जो नीट के एग्जाम को पास नहीं कर पाते हैं लेकिन उनका सपना रहता है कि वह डॉक्टर बने तो वह प्राइवेट कॉलेज के माध्यम से डॉक्टर की डिग्री हासिल करने के लिए कोर्स करते हैं। 

डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक कोर्स
डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक कोर्स

लेकिन उन लोगों को यह पता ही है रहता है कि डॉक्टर बनने के लिए कौन-कौन से कोर्स किए जाते हैं तो चलिए इसी परेशानी को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर बनने के लिए जिन जिन कोर्स को किया जाता है उनके बारे में बताएँगे। 

(1) MBBS:

इसका मतलब Bachelor Of Medical And Bachelor Surgery hota है यह कोर्स 12वीं के बाद किया जाता है इसकी अवधि 5.5 साल होता है इस कोर्स को आप प्राइवेट या गवर्नमेंट कॉलेज की मदद से कर सकते हैं इस कोर्स को करने के बाद आप एक जूनियर डॉक्टर बन सकते हैं। 

(2) B.sc नर्सिंग :

 बीएससी नर्सिंग का कोर्स आज के समय में मेडिकल के स्टूडेंट के लिए पसंदीदा कोर्स है अंडर ग्रेजुएट स्टूडेंट कर सकते हैं इस कोर्स को करने के बाद या तो आप गवर्नमेंट सेक्टर में जो प्राप्त कर सकते हैं लेकिन यदि गवर्नमेंट में भी नंबर नहीं आता है तो प्राइवेट सेक्टर में इसके बहुत सारे रोजगार के अवसर है। 

 वैसे तो बीएससी नर्सिंग का कोर्स 4 साल का होता है लेकिन 1 साल इंटरशिप करने के बाद आपको 5 साल तक का समय लग जाता है। 

(3) B.pharma : 

 बी फार्मा का कोर्स भी मेडिकल वाले स्टूडेंट के लिए अच्छा माना जाता है B.pharma का मतलब होता है Bachelor Of Pharma. इस कोर्स को करने के बाद फार्मा सेक्टर में आपका  ग्रेजुएशन पूरा हो जाता है जिसमें आपको दवाइयों के बारे में कंप्लीट जानकारी हो जाती है। 

 इस कोर्स की अवधि 4 साल की होती है जिसमें 8 सेमेस्टर के बारे में पढ़ना होता है। इसको करने के बाद भी प्राइवेट और गवर्नमेंट सेक्टर में बेहतर रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं। 

(4 BHMS:

 इसका मतलब होता है Bachelor Of Homeopathic Medicine And Surgery. वैसे तो यह कोर्स साडे 4 साल का होता है लेकिन इसमें 1 साल के लिए प्रैक्टिकल भी लिए जाते है मतलब कुल मिलाकर साडे 5 साल का समय इस कोर्स को करने में लगता है। 

Conclusion 

 तो आशा करते हैं दोस्तों आपको हमारी द्वारा बताई गई जानकारी doctor kaise bane in hindi अच्छे से समझ में आ गई होगी। यदि आपका चयन नीट की परीक्षा में नहीं होता है तो आप किसी भी प्राइवेट कॉलेज से बताई गई कोर्स कर सकते हैं और डॉक्टर बन सकते हैं।

Leave a Comment